साथ बढ़ाये..

आओ फिर से साथ बढ़ाये।

सब मिल दिप जलाए।

अंधेरों की जीत का ,

रिश्तों के अभिषेक का,

आओ फिर से साथ बढ़ाये।

यूं तो कहने को ।

साथ रिश्ते सब है।

फोन पर थे घंटों,

पर दिलो में अकेलापन है,

आबाद दिल को करने का ।

आओ फिर से साथ बढ़ाये।

दिल तो है तैयार ।

रोडा अटकाया ये दिमाग,

मैंने तुझको दिया ,

पाना मुझे सब है,

ये तो पागलपन है।

दूर करदे सब तकलीफें 

सब है अपने सबके है हम।

आओ फिर से साथ बढ़ाये।।